क्या शादी के बंधन में बंधने वाले हैं नेहा कक्कड़ और आदित्य नारायण?

इंडियन आइडल 11 में शो की जज बनी सिंगर नेहा कक्कड़ और शो के होस्ट आदित्य नारायण को लेकर बड़ी खबर सामने आ रही है। इंडियन आइडल के वीकेंड वाले शो में आदित्य नारायण के पिता मशहूर सिंगर उदित नारायण अपनी पत्नी के साथ शो पर पहुंचे थे।

हालांकि सिंगिंग शो में किसी बड़े सिंगर का पहुंचना कोई बड़ी बात नहीं है लेकिन शो में पहुंचे उदित नारायण ने ऐसा कुछ कह दिया जिसको लेकर अफवाहों का बाजार गर्म हो गया है। उदित नारायण ने स्टेज से इस बात को स्वीकार किया कि वह नेहा कक्कड़ को अपने घर की बहू बनाना चाहते हैं।

बता दें कि शो में नेहा कक्कड़ के माता-पिता भी मौजूद थे जो इस अनाउंसमेंट के बाद स्टेज पर आ गए। उधर नेहा ने उदित नारायण के पैर छुए और आदित्य नेहा के माता पिता के पैर छुए। अब यह केवल पब्लिसिटी स्टंट है या फिर दो परिवार एक होने जा रहे हैं इसका हिंट है आगे चलकर पता चलेगा!

दिल्ली में पकड़े गए ISIS के तीन आतंकवादी

गणतंत्र दिवस के मद्देनजर दिल्ली में हाई अलर्ट जारी कर दिया गया है। वहीं इस दौरान दिल्ली पुलिस ने तीन संदिग्ध आतंकवादियों को गिरफ्तार किया है जिन पर आईएसआई से संबंध होने का आरोप है।

पुलिस का कहना है कि ये आतंकवादी 26 जनवरी के अवसर पर दिल्ली एनसीआर में किसी बड़ी घटना को अंजाम देने के फिराक में थे। पकड़े गए तीनों आतंकवादियों के पास से 9 एमएम की तीन पिस्टल भी बरामद की गई है।

बता दें कि 2018 में भी ऐसे ही आतंकी घटना की सूचना के चलते पुलिस ने दिल्ली-एनसीआर में 16 जगह छापे मारे थे जिनमें दिल्ली के सीलमपुर और जाफराबाद के ही 6 – 7 ठिकाने शामिल थे।

दाऊद और छोटा राजन का करीबी एजाज लकड़ावाला गिरफ्तार

मुंबई पुलिस कमिश्नर संजय वर्मा बर्वे ने बताया है कि गैंगस्टर एजाज लकड़ावाला को मुंबई पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। लकड़ावाला के ऊपर 25 से अधिक अपराधिक मामले दर्ज हैं। इसके अलावा उसके ऊपर अन्य 80 के आसपास आपराधिक मामले दर्ज हैं। एजाज लकड़ावाला देश के बड़े बिजनेसमैन और सेलिब्रिटीज को अंतरराष्ट्रीय मोबाइल नंबरों के द्वारा वसूली के लिए धमकी दिया करता था।

एजाज के बारे में कहा जाता है कि वह दाऊद इब्राहिम गैंग का सदस्य था और कुछ दिनों बाद वह छोटा राजन के गैंग में शामिल हो गया। हालांकि इन दोनों गैंगों को छोड़कर उसने 2008 में अपना खुद एक गैंग बना लिया। वहीं 2002 में उसके ऊपर छोटा शकील के शूटरों द्वारा हमले भी किए गए जिसमें एजाज को 7 गोलियां लगीं।

ज्ञात हो कि पुलिस द्वारा कुछ ही दिनों पहले एजाज लकड़ावाला की बेटी सोनिया एजाज लकड़ावाला को गिरफ्तार किया गया था और पुलिस को सूचना मिली थी कि एजाज पटना में मौजूद है। वहीं बिहार पुलिस की मदत से मुंबई पुलिस ने एजाज को पटना एयरपोर्ट से गिरफ्तार किया है।

नागरिकता कानून पर विपक्ष से खफा ममता बनर्जी

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने नागरिकता संशोधन कानून को लेकर विपक्षी दलों को आड़े हाथों लिया है। ममता बनर्जी का कहना है कि नागरिकता संशोधन कानून असंवैधानिक है इसमें कोई शक नहीं है लेकिन विपक्षी पार्टियां इसको लेकर डर्टी पॉलिटिक्स कर रही हैं। वहीं विपक्ष के द्वारा दिल्ली में 13 जनवरी को बुलाए गए सर्वदलीय बैठक मैं पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने जाने से इंकार कर दिया है।

उनका कहना है कि वह इस लड़ाई में विपक्ष के साथ नहीं है। बल्कि नागरिकता कानून के खिलाफ वह अकेले लड़ाई लड़ेंगी। ममता बनर्जी ने यहां तक कहा कि वाम दल और कांग्रेस राज्यों में हड़ताल कर अर्थव्यवस्था चौपट करने पर अमादा है।

यह लोग हड़ताल की राजनीति कर सत्ता में वापस आने का ख्वाब देख रहे हैं। बता दें कि नागरिकता कानून में अफगानिस्तान, बांग्लादेश और पाकिस्तान से आने वाले धर्म के आधार पर प्रताड़ित अल्पसंख्यकों को भारत की नागरिकता देने का प्रावधान है।

नागरिकता कानून को लेकर क्या बोले चीफ जस्टिस

नागरिकता संशोधन कानून पर सुनवाई करते हुए चीफ जस्टिस एस. ए. बोबडे ने कहा कि इस समय नागरिकता कानून के पक्ष में दायर याचिका पर विचार करना उचित नहीं रहेगा क्योंकि देश मुश्किल हालातों से गुजर रहा है।

उन्होंने कहा कि इस समय फैसले सुनाने का समय नहीं है बल्कि देश में चल रहे माहौल को शांत करने का समय है। बता दें कि नागरिकता संशोधन कानून को संवैधानिक साबित करने के लिए सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल की गई थी। विनीता नाम के वकील द्वारा यह याचिका दायर की गयी थी।

नागरिकता कानून के खिलाफ और इसको और संवैधानिक साबित करने के लिए टीएमसी सांसद महुआ मोइत्रा, एआईएमआईएम प्रमुख असुद्दीन ओवैसी जैसे कई सारे संगठनों और नेताओं ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की है। इन्हीं याचिकाओं पर सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार को नोटिस भेज कर स्पष्टीकरण मांगा था।

विपक्ष ने निकाली ‘गांधी यात्रा’

मुंबई में विपक्षी पार्टियों द्वारा नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में गांधी यात्रा निकाला गया। 21 दिन तक चलने वाली यह यात्रा मुंबई के गेटवे आफ इंडिया से शुरू होकर दिल्ली के राजघाट पर समाप्त की जाएगी। इस यात्रा में विपक्ष के बड़े नेता शामिल हुए जिनमें बीजेपी के पूर्व नेता शत्रुघ्न सिन्हा और पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा शामिल थे तो वहीं कांग्रेस के पृथ्वीराज चौहान और एनसीपी के प्रमुख शरद पवार ‘गांधी यात्रा’ का हिस्सा बने।

नागरिकता कानून और एनआरसी के विरोध में जारी इस यात्रा का उद्देश्य यह बताया जा रहा है कि इसमें देश के खराब अर्थव्यवस्था के साथ ही किसानों के मुद्दे को भी प्रमुखता से उठाया जाएगा। इस यात्रा के जरिए मौजूदा सरकार को घेरने की कोशिश की जाएगी और सरकार से देश में फैली अव्यवस्था के बारे में सवाल किए जाएंगे।

इस यात्रा को संबोधित करते हुए पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा ने कहा कि महात्मा गांधी के सिद्धांतों की हत्या दोबारा से नहीं होने दिया जाएगा।

17 देशों के राजनयिक कश्मीर दौरे पर

अंतरराष्ट्रीय मंचों पर पाकिस्तान द्वारा भारत को बार-बार कश्मीर मुद्दे पर घेरने की कोशिश और भारत के द्वारा कश्मीर में मानवाधिकारों के उल्लंघन के आरोप लगाए जाने के बीच अमेरिका सहित 17 देशों के राजनयिक कश्मीर का दौरा करेंगे। बता दें कि अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद पहली बार विदेशी राजनयिकों का ग्रुप कश्मीर दौरे के लिए जा रहा है।

इस ग्रुप में दक्षिण कोरिया, वियतनाम, अमेरिका जैसे देशों के राजनयिक भी शामिल होंगे। हालांकि यूरोपीयन यूनियन की तरफ से कोई भी राजनीतिक इस दल में नहीं जा रहा है। इस संदर्भ में भारत सरकार के तरफ से सूचना मिली है कि यूरोपियन यूनियन कश्मीर के दौरे के लिए अलग ग्रुप की मांग कर रहे हैं जो मौजूदा समय में संभव नहीं है।

इसलिए उन्हें अलग से अनुकूल परिस्थितियों में कश्मीर भेजा जाएगा। इससे पहले अक्टूबर के महीने में यूरोपीय संसद के 27 लोगों का दल कश्मीर के दौरे पर गया था।

बजट से पहले नीति आयोग में पीएम मोदी की महत्वपूर्ण बैठक

31 जनवरी से शुरू होकर 3 अप्रैल तक चलने वाले बजट सत्र से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी नीति आयोग में एक महत्वपूर्ण मीटिंग करने जा रहे हैं। सुस्त पड़ी देश की अर्थव्यवस्था और आने वाले बजट सत्र को ध्यान में रखते हुए कहा जा रहा है कि इस बैठक में कुछ महत्वपूर्ण बिंदुओं पर मंथन किया जाएगा।

इस बैठक में मुख्य कार्यकारी अधिकारी अमिताभ कांत और नीति आयोग के उपाध्यक्ष राजीव कुमार के अलावा दूसरे भी सीनियर अधिकारी भाग लेंगे। बता दें कि प्रधानमंत्री मोदी ने आगामी आम बजट को लेकर जनता से भी सुझाव मांगे हैं। ट्वीट करते हुए पीएम मोदी ने कहा है कि आगामी बजट के लिए आप अपने सुझाव MYGOV पर जरूर दें।

इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि आने वाला बजट 130 करोड़ भारतीय लोगों के उम्मीदों और आकांक्षाओं का प्रतिनिधित्व करने वाला होगा। बजट सत्र का पहला चरण 31 जनवरी से शुरू होकर 11 फरवरी तक चलेगा। वहीं दूसरे सत्र की शुरुआत 2 मार्च से होगी जो 3 अप्रैल को समाप्त होगा। दोनों सत्रों के बीच में 1 महीने का अवकाश रहेगा इस बजट को वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण पेश करेंगी।

असम: ‘खेलो इंडिया’ के उद्घाटन समारोह में नहीं होंगे शामिल PM मोदी

10 जनवरी 2020 को होने वाले खेलो इंडिया गेम्स के उद्घाटन समारोह में प्रधानमंत्री मोदी का जाना कैंसिल हो गया है। गुवाहाटी में आयोजित होने वाले खेलो इंडिया गेम्स उद्घाटन कार्यक्रम में शामिल नहीं होने के बारे में बीजेपी प्रवक्ता दीवान ध्रुव ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पास समय की कमी के चलते इस प्रोग्राम को स्थगित किया गया है।

हालांकि प्रदेश के वित्त मंत्री हेमंत विश्वा का कहना है कि खेलो इंडिया गेम्स के उद्घाटन समारोह में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आने का कोई कार्यक्रम था ही नहीं फिर ऐसे में उनके कार्यक्रम को रद्द करने का सवाल ही पैदा नहीं होता है। उनका कहना है कि औपचारिकता वश पीएमओ में निमंत्रण भेजा गया था लेकिन इस निमंत्रण का कोई जवाब पीएमओ की तरफ से नहीं आया था।

दूसरी तरफ यह भी संभावना जताई जा रही है कि असम में नागरिकता संशोधन कार्यक्रम को लेकर बड़े पैमाने पर विरोध किया जा रहा है। वहीं ऑल स्टूडेंट यूनियन यह चेतावनी दी थी कि पीएम मोदी अगर असम का दौरा करते हैं तो उनका बड़े पैमाने पर विरोध किया जाएगा।

भारत ने खाड़ी में तैनात किए युद्धपोत

अमेरिका और ईरान के बीच लगातार जारी तनाव को ध्यान में रखते हुए भारत ने खाड़ी में अपने युद्धपोत तैनात कर दिए हैं। युद्धपोतों की तैनाती पर नौसेना ने कहा है कि भारत के समुद्री हितों को ध्यान में रखते हुए यह निर्णय लिया गया है। नौसेना का कहना है कि खाड़ी के रास्ते भारत में व्यापार करने वाले व्यापारियों को सुरक्षा प्रदान करने तथा भारत की तरफ आने वाले किसी भी संकट के लिए पूरी तरह से तैयारी के चलते नौसेना ने अपने युद्धपोत खाड़ी में जमाने शुरू कर दिए हैं।

बता दें कि पिछले कुछ दिनों से अमेरिका और ईरान आपस में युद्ध की स्थिति बनाए हुए हैं। इस युद्ध की शुरुआत अमेरिका के द्वारा किया गया जिसमें ईरान के जनरल कासिम सुलेमानी को अमेरिकी हवाई सेना द्वारा मार गिराया गया।

इसके बाद ईरान ने अमेरिका के एयर बेस पर मिसाइल के जरिए हमले किए और 80 सैनिकों को मारने का दावा भी किया।हालांकि अमेरिका ने ईरान के इस दावे को नकारते हुए कहा कि उसके सभी सैनिक सुरक्षित हैं और इस मिसाइल हमले में एक भी सैनिक मारा नहीं गया है।